रविवार, 9 मई 2010

कौंध दामिनी सी स्मृतिया , उर में आग लगा जाती हैं

कौंध दामिनी सी स्मृतिया , उर में आग लगा जाती हैं .
सम्मोहन स्वर मन में उभरे , बिरह मेघ जगा जाती हैं.
बिरह मेघ की बूंदों से नयन जलज हो जाते हैं.
सुन्या स्रादिस्य सूखे हृद्यांगन भावों से भर जाते हैं.
भाव भरे जब अंतर्मन में , मन पुलकित हो आह्लाद करे.
शुन्य मिलन हो आज प्रिये , ना अधरों पर अवसाद रहे.
भावभरी उस प्रेम सुधा का , हर पल हर छन पान करे.
कर आलिंगनबद्ध प्रतिग्या , आत्ममिलन का ग्यान करें.
हृदय तुम्हें देती हूँ प्रियतम , बंध कर हृदय मुक्त होते हैं.
देह नहीं है परिधि प्रणय की , दीव्य प्रणय उन्मुक्त होते हैं.
For Website Development Please contact at +91-9911518386

1 टिप्पणी:

  1. बहुत ही सुन्दर शब्द चयन किये हैं कविता में भाव अभिव्यक्ति के लिए.

    उत्तर देंहटाएं

website Development @ affordable Price


For Website Development Please Contact at +91- 9911518386