गुरुवार, 26 अगस्त 2010

प्रिय याद तुम्हारी आती है

प्रिया याद तुम्हारी आती है

शीतल मंद सुगंध पवन
जब मुझसे कुछ कह जाती है
रिमझिम सावन की बूंदे
जब धरती की प्यास बुझती है
और वाटिका मे कोयल जब
मीठे गीत सुनती है
बैठ अकेले कमरे में जब यादें
मीठे स्वप्न सजाती हैं
प्रिय याद तुम्हारी आती है
सावन भौरें कोयल के गीत
सब बेमानी हो जाती है
जब याद तुम्हारी आती है
प्रिय याद तुम्हारी आती है
For Website Development Please contact at +91-9911518386

6 टिप्‍पणियां:

  1. सावन भौरें कोयल के गीत
    सब बेमानी हो जाती है
    जब याद तुम्हारी आती है
    प्रिय याद तुम्हारी आती है

    बहुत बढिया !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बैठ अकेले कमरे में जब यादें
    मीठे स्वप्न सजाती हैं
    प्रिय याद तुम्हारी आती है

    सुंदर....!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहोत बढ़िया पोस्ट... छू गई दिल को... लिखते रहिये जनाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. syaam rang me doobi radha jaise sapne sajati hai priye yaad tumhari aati hai...

    उत्तर देंहटाएं

website Development @ affordable Price


For Website Development Please Contact at +91- 9911518386