रविवार, 18 दिसंबर 2016

आधार कार्ड और कैशलेस ट्रांजैक्शन

आधार कार्ड और कैशलेस ट्रांजैक्शन
नोटबंदी के बाद लोगो को पैसो को लेकर काफी समस्यायों का सामना करना पड़ रहा है. एटीएम और बैंको में कैश की कमी को देखते हुए कैशलेस ट्रांजैक्शन ही एक बेहतर विकल्प नजर आ रहा है . सरकार भी इस तरफ गंभीरता से सोच रही है. ज्यादा से ज्यादा लोगो को कैशलेस ट्रांजक्शन से जोड़ने के लिए  नए नए तरीके ले कर आ रही है.  इसी के तहत अब कैशलेस ट्रांजैक्शन के लिए आधार कार्ड के प्रयोग पर काम कर रही है. ये कैशलेश के तरफ बढ़ने वाला सबसे क्रांतिकारी कदम होने जा रहा है.

इनफोकस लांच करेगा आधार इनेबल्ड फ़ोन

सरकार जल्द से जल्द आधार इनेबल्ड पेमेंट के लिए ऐप बनाने की कोशिश कर रही है. मोबाइल कंपनिया नए मोबाइल सेट में फिंगरप्रिंट या आईरिस की पहचान करने वाला सिस्टम बनाने पर विचार कर रहे है. इसी कड़ी में अभी कुछ दिन पहले ही इनफोकस ने भारत में जल्द ही ऐसा स्मार्टफोन लांच करने का एलान किया है जो उपभोक्ता के लिए आधार कार्ड का काम करेगी. इस फ़ोन को इनफोकस एम425 नाम दिया गया है. अमेरिका की मोबाइल बनाने वाली कंपनी इनफोकस का कहना है की इस फ़ोन में आईरिस स्कैनर लगा होगा. इस फ़ोन की कीमत करीब12000 रुपये बताई जा रही है. इनफोकस के अनुसार,  इसे एस टी क्यू सी (स्टैंडर्डाइजेशन टेस्टिंग ऐंड क्वॉलिटी सर्टिफिकेशन) मिला है. बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन में आइरिश रिकॉग्निशन डिवाइसेस के इस्तेमाल के लिए  एस टी क्यू सी सर्टिफिकेशन दिया जाता है. इनफोकस एम425में सुपीरियर इमेज क्वालिटी असेसमेंट एल्गोरिदम होगाजिससे सही आईडेन्टिफिकेशन की जा सकेगी. इनफोकसयू आई डी ए आई के अलावा केन्या अमेरिका और कोलम्बिया  में सरकारी एजेंसियों के साथ मिलकर काम करती है. अब तक सिर्फ सैमसंग ही ऐसी कंपनी है जो गैलेक्सी टैब में आईरिस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर रही है.

आईये देखते है की क्या होगा ये सिस्टम और यह कैसे काम करेगा.

आधार कार्ड में आपकी पूरी डिटेल दर्ज होती है. देश भर में लोगो को आधार कार्ड जारी करने वाले यू आई डी ए आई के पास लोगो के फिंगरप्रिंट और आँखों की पहचान यानि आईरिस डाटा मौजूद होगा. लेन देन करने वालो का आधार नंबर बैंक से लिंक होना जरूरी होगा. इसके बाद आपको आधार इनेबल्ड डिवाइस पर या स्मार्टफोन पर अंगूठा या अपने आँखों की पहचान देनी होगी. पहचान मैच होते ही पेमेंट हो जायेगा. फिंगरप्रिंट या आईरिस के जरिये ही पेमेंट होगा. डिजिटल लेन देन में आधार नंबर का सिस्टम शुरू करने के लिए सरकारी कोशिशे जोरो पर है. आँध्रप्रदेश में आधार नंबर पर राशन बाटने की योजना सफल रही है. 
क्या होंगे फायदे
आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम यानि  (ए इ पी एस) के चलन में आते ही बहुत सारी समस्याएं एक झटके में ख़तम हो जाएँगी. बैंको पर भी काम का दबाव कम होगा. आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम के और भी फायदे है जैसे आप अपने खाते का बैलेंस पता कर सकते है.  पैसा निकाल सकते है. पैसा जमा कर सकते है. दूकान पर पेमेंट कर सकते है. इसका सबसे बड़ा फायदा तो यह है की लोग पिन और पासवर्ड जैसी प्रक्रिया से बच जायेंगे. पैसा उपभोक्ता के अकाउंट से दूकानदार के अकाउंट में सीधे चला जायेगा. आधार नंबर का डिजिटल सिस्टम लागु होने पर लोगो को डेबिट या क्रेडिट कार्ड ले कर चलने से छुटकारा मिलेगा. साथ ही कार्ड के पिन याद करने के झंझट से भी मुक्ति मिलेगी. कार्ड के खो जाने का भी डर ख़त्म हो जायेगा. आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम के सफल हो जाने पर सरकार कैशलेश ट्रांजैक्शन में आम आदमी को जोड़ सकेगी.

क्या हो सकते है नुकसान

एसोचैम ( दी एसोसिएटेड चैम्बर्स ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ऑफ़ इंडिया ) और एक रिसर्च फर्म ई वाई के रिपोर्ट के अनुसार भारत में मोबाइल फ्रॉड 60 से 65 प्रतिशत तक बढ़ने की संभावना है. साथ ही साथ नेटबैंकिंगडेबिट और क्रेडिट कार्ड के फ्रॉड भी बढ़ेंगे. ऐसे में सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती करोड़ो लोगो के बायोमेट्रिक डाटा को सुरक्षित और इस्तेमाल लायक बनाना होगा. इसके अलावा आपको पैसे के लेन देन के लिए आपका मौजूद रहना जरूरी होगा.

For Website Development Please contact at +91-9911518386

2 टिप्‍पणियां:

website Development @ affordable Price


For Website Development Please Contact at +91- 9911518386