बुधवार, 27 अप्रैल 2016

आरक्षण और मनुवाद



जब आरक्षण का लाभ ले रहे धनी लोगों से आरक्षण छोड़ने की बात की जाती है तो वो एक ही बात कहते हैं आप मनुवाद छोड़ दो हम आरक्षण छोड़ देंगे। आज कितने घरों में मनुस्मृति देखने को मिलती है? शायद लाखों में एक घर ऐसा होगा जहां मनुस्मृति देखने को मिले। इसका कारण ये है की हिंदुओं ने स्वयं इसे अव्यवहारिक समझकर इसका परित्याग कर दिया है और बाजार में जो उपलब्ध भी है वह विकृत रूप में हैं यानि हिन्दू विरोधियों ने उसमें छेड़छाड़ कर सवर्णों को बुरा बताने का हर सम्भव प्रयास किया है। फिर भी मनुवाद का ठप्पा फेविकोल की तरह सवर्ण हिंदुओं के साथ चिपका दिया गया है..........
For Website Development Please contact at +91-9911518386

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

website Development @ affordable Price


For Website Development Please Contact at +91- 9911518386